Wednesday Word of the Week: pareidolia

#madhubanitutor

Nat Geo Education Blog

pareidolia(pair-i-DOH-lee-uh)
noun. optical illusion involving the perception of a familiar pattern or meaning where it does not actually exist.

Pareidolia can be seeing a bunny in the clouds, Hitler in a teapot, Jesus in a chapatti, or whatever you want in an inkblot.

Landscape, however, provides some beautiful examples of pareidolia. And now, thanks to the geniuses at Google, NASA, and the makers of some facial-recognition software, they’re fun to find.

There's the Face on Mars, of course, although it doesn't look as familiar in higher resolution. Photographs by NASA/JPL There’s the Face on Mars, of course, although it doesn’t look as familiar in higher resolution.
Photographs by NASA/JPL

This smiley face was the first image to greet the stellar cartographers of the Mars Orbiter Camera in 1999. Photograph by NASA/JPL/MSSS This smiley face was the first image to greet the stellar cartographers of the Mars Orbiter Camera in 1999.
Photograph by NASA/JPL/MSSS

New Hampshire's Old Man of the Mountain was so familiar it appeared on their state quarter, but the rock formation collapsed in 2003. Photograph by Jeffrey Joseph, courtesy Wikimedia. This work has been released into the public domain by its author, Jeffrey Joseph at the wikipedia project. This applies worldwide. New Hampshire’s Old Man of the Mountain was so familiar it appeared on the state’s official quarter, but the rock formation collapsed in 2003.
Photograph by Jeffrey Joseph, courtesy Wikimedia. This work has been…

View original post 186 more words

Advertisements

Top 10 Study tips

image

Here’s our top tips for getting the most out of
study.
1. Pick a Place and Time
2. Study Every Day
3. Plan Your Time
4. Discover Your Learning Style
5. Review and Revise
6. Take Breaks
7. Ask for Help
8. Stay Motivated
9. App it Up
10. Look After Yourself

1. Pick a Place and time
Everyone has their own idea about the best place
and time to study. Whether it’s your bedroom at
night or the library after school, find a study space
and a regular study time that works for you and
stick with it.
Set Up Your Study Space – Your study space
should be quiet, comfortable and distraction-free. It
should make you feel happy and inspired. Decorate
it with your favourite pictures or objects. If you
want to listen to music or burn incense, pick a
space that lets you do that.
Find Your Best Time – Some people work better
in the morning. Others work better at night. Work
out which time suits you and plan to study then.
Don’t study much later than your usual bedtime –
pushing yourself late at night can make you too
tired to study properly.
Back to top
2. Study Every Day
If you study a little bit every day you’ll be
continually reviewing things in your mind. This helps
you understand things. It also helps you avoid the
stress of last-minute cramming.
Early in the year an hour or two a night might be
enough to stay on top of things. Later in the year
you might need to study more each day.
If you’re finding it hard to find time to study, cut
back on some (but not all!) of your other activities.
Prioritising study might mean spending less time
online, or it might mean cutting back on shifts at
work, or giving weekend sport a miss for a while.
Back to top
3. Plan Your Time
It helps to have some plans in motion so you can
make the most of your study time.
Set Alarms – Set alarms to remind you about
your study plans. A regular reminder keeps you
honest and your plans on track.
Use a Wall Planner – Stick a calendar or wall
planner up so you can see it whenever you’re
studying. Mark it up with important dates, like
exams and assignment due dates. Use it to block
out your regular study timetable too.
Make To-Do Lists – Lists break tasks down into
manageable chunks. At the start of the week, make
a list of the things that you need to have done by the
end of the week. Make a to-do list at the start of
each study session too, so that you’re clear about
what you need to be doing with your time.
Set Time Limits – Before you start your study
session, have a look at your to-do list and give
yourself a set time to spend on each task. If you
don’t get something done in the set time, consider
whether it’s the best use of your time to keep going
with it, or to start working on something else.
Back to top
4. Discover Your Learning Style
Most of us have a preferred way of learning. Get to
know your learning style and study in the ways you
learn best.
Auditory learners learn by listening. If you’re an
auditory learner you could try reading your notes
aloud and discussing them with other people. You
might like to record key points and play them back.
Visual learners learn by seeing. If you’re a visual
learner you could use colours in your notes and
draw diagrams to help represent key points. You
could try to remember some ideas as images.
Tactile/kinesthetic learners learn by doing. If
you’re a tactile/kinesthetic learner you could use
methods like role-playing or building models to
revise key points.
Courseworks at the University of Melbourne has a
quick quiz you can take (new window) to see what
kind of learner you are.
Back to top
5. Review and Revise
At least once a week you should go back over the
things you’ve studied in class. Thinking things over
can help you to understand the concepts and help
you remember when you need them the most.
Quiz Yourself – Get a friend or family member to
quiz you on key concepts. Offer to help your friends
with their work too. Quizzes are great ways to get
confident about what you know and find out what
you still need to learn.
Make your Own Study Materials – Think up some
practice exam questions or create your own flash
cards to help you study. This way you learn it all
twice: once when you make the study materials
and once when you use them to revise.
Back to top
6 . Take Breaks
It’s important to take breaks while you’re studying,
especially if you’re feeling tired or frustrated.
Working too long on a task can actually decrease
your performance.
When you take a break, make sure you get away
from your desk or study space. A bit of physical
activity – even just a walk around the block – can
sometimes help you to look at a problem in a
different way and could even help you to solve it.
Back to top
7. Ask for Help
If you’re stuck on something, or something just
doesn’t seem to make sense, you can always ask
for help. Talk to your teachers or lecturers about
the things you don’t understand. Talk to your
friends and fellow students too.
Back to top
8. Stay Motivated
When you’re studying it helps to keep in mind your
reasons for doing all this hard work, like a course
or career you’re working towards. It can help to
have something in your study space to remind you
of your goals.
You could also decorate your study space with
inspirational quotes or photos of people you admire
and family members you want to make proud of
you.
Back to top
9. App it Up
There are heaps of apps out there for helping
students with all aspects of study. Have a chat with
your friends and teachers/lecturers to see which
apps they recommend.
You should also check out:
5 Study Apps – Roving reporter Ellis’s
recommendations
iPads for Learning (new window) – A searchable
database of subject-specific apps
Back to top
10 . Look After Yourself
You’ll study better if you take care of yourself.
Make sure you eat well and get enough sleep and
physical exercise. Don’t reward yourself with too
many sugary or fatty snacks or push yourself to
study late into the night. It’s also a good idea to
make sure you drink lots of water when you’re
studying.
Back to top
Now Come Up with Your Own
Strategies
These tips are only some of the things you can do
to get the most out of your studying. You might
already have other things that work better for you.
Find out what your friends do when they’re
studying. Maybe your teachers have some good
recommendations too.
Whatever it is, whatever strategy you come up with,
when you find something that works for you, put it
into practise and go for it!
contact us for more tips

Mukesh Jha

विद्युत (Electricity)

image

वायुमण्डलीय विद्युत
विद्युत आवेशों के मौजूदगी और बहाव से जुड़े
भौतिक परिघटनाओं के समुच्चय को विद्युत (Electricity)
कहा जाता है । विद्युत से अनेक जानी-
मानी घटनाएं जुड़ी है जैसे कि तडित,
स्थैतिक विद्युत, विद्युतचुम्बकीय प्रेरण, तथा
विद्युत धारा । इसके अतिरिक्त, विद्युत के द्वारा ही
वैद्युतचुम्बकीय तरंगो (जैसे रेडियो तरंग ) का सृजन
एवं प्राप्ति सम्भव होता है।
विद्युत के साथ चुम्बकत्व जुड़ी हुई घटना है ।
विद्युत आवेश वैद्युतचुम्बकीय क्षेत्र पैदा करते
हैं। विद्युत क्षेत्र में रखे विद्युत आवेशों पर बल लगता है।

विद्युत का आधार
समस्त विद्युत का आधार इलेक्ट्रॉन हैं। इलेक्ट्रानों के
हस्तानान्तरण के कारण ही कोई वस्तु आवेशित
होती है। आवेश
की गति ही विद्युत धारा है। विद्युत के
अनेक प्रभाव हैं जैसे चुम्बकीय क्षेत्र, ऊष्मा ,
रासायनिक प्रभाव आदि।

विद्युत आवेश
जब विद्युत और चुम्बकत्व का एक साथ अध्ययन किया जाता है
तो इसे विद्युत चुम्बकत्व कहते हैं। विद्युत को अनेकों प्रकार
से परिभाषित किया जा सकता है किन्तु सरल शब्दों में कहा जाये
तो विद्युत आवेश की उपस्थिति तथा बहाव के
परिणामस्वरूप उत्पन्न उस सामान्य अवस्था को विद्युत कहते
हैं जिसमें अनेकों कार्यों को सम्पन्न करने
की क्षमता होती है। विद्युत चल
अथवा अचल इलेक्ट्रान या प्रोटान से सम्बद्ध एक भौतिक
घटना है। किसी चालक में विद्युत आवेशों के बहाव
से उत्पन्न उर्जा को विद्युत कहते हैं।

इतिहास
ईसा से लगभग ६०० वर्ष पूर्व यूनान निवासी
थेलीज़ इस बात से परिचित थे कि कुछ वस्तुएँ रगड़ने
के पश्चात हलकी वस्तुओं को आकर्षित
करती हैं। इसका उल्लेख
थीआफ्रैस्टस (Theophrastus) ने ३२१ ई.पू.
में तथा प्लिनि (Pliny) ने सन् ७० में किया था। इस आकर्षण
शक्ति का अध्ययन १६ वीं शताब्दी में
विलियम गिलबर्ट (१५४०-१६०३ ई.) द्वारा हुआ तथा उन्होंने
इसे ‘इलेक्ट्रिक’ कहा। आधुनिक शब्द ‘इलेक्ट्रॉन’ का उपयेग
[[यूनानी भाषा] में अंबर के लिए किया जाता है।
‘इलेक्ट्रिसिटी’ शब्द का उपयोग सन् १६५० में
वाल्टर शार्ल्टन (Walter Charlton) ने किया।
इसी समय राबर्ट बायल (१६२७-१६९१ ई.) ने
पता लगाया कि आवेशित वस्तुएँ हल्की वस्तुओं
को शून्य में भी आकर्षित करती हैं,
अर्थांत् विद्युत् के प्रभाव के लिए हवा का माध्यम
होना आवश्यक नहीं है। सन् १७२९ में
स्टीफ़न ग्रे (Stephen Gray, सन्
१६९६-१७३६) ने अपने प्रयोगों के आधार पर कहा कि यह
आकर्षण शक्ति किसी वस्तु के एक भाग से दूसरे
भाग को संचारित की जा सकती है।
ऐसी वस्तुओं को देसाग्युलियर्स (Desaguliers,
१६८३-१७४४) ने ‘चालक’ (Conductor) कहा।
सभी प्रकार की धातुएँ इस
श्रेणी में आती हैं। वे वस्तुएँ जिनमें
इस शक्ति को संचारित नहीं किया जा सकता,
विद्युतरोधी (Insulator)
कहलाती हैं। इस श्रेणी में अंबर,
मोम, सूखी हवा, सूखा काँच, रबर, लाख इत्यादि हैं।
वस्तुओं की रगड़ के कारण विद्युत् दो प्रकार
की होती है, घनात्मक एवं
ऋणात्मक। पहले इनके क्रमश: काचाभ (vitreous)
तथा रेजिनी (resionous) नाम प्रचलित थे। सन्
१७३७ में डूफे (Du Fay, १६९९-१७३९) ने
बताया कि सजातीय आवेश एक दूसरे को प्रतिकर्षित
करते हैं तथा विजातीय आकर्षित करते हैं। १७४५
में क्लाइस्ट (Kleist) ने क्यूमिन (Kummin) में, मसेनब्रूक
(Musschen brock) ने लाइडेन (Leyden) में, तथा विलियम
वाटसन (William Watson) ने लंदन में कहा कि विद्युत्
का संचय भी किया जा सकता है, इनके
प्रयोगों तथा विचारों ने प्रसिद्ध संचायक लीडेन जार
(Leydenjar) को जन्म दिया। लगभग इसी समय
विद्युत् को पर्याप्त मात्रा में प्राप्त करने के प्रयत्न
भी जारी थे तथा विभिन्न प्रकार के
विद्युत यंत्रों का आविष्कार हुआ। विलिय वटसन का विचार
था कि विद्युत् एक प्रकार का प्रत्यास्थ तरल (Elastic fluid)
होती है जो प्रत्येक वस्तु में विद्यमान
होती है। आवेशविहीन वस्तुओं में
यह साधारण मात्रा में होती है अत:
इसका निरीक्षण नहीं किया जा सकता।
वाटसन के तरल सिद्धांत के अनुसार विद्युत् एक वस्तु से
दूसरी वस्तु में
चली जाती है।
अमरीकी वैज्ञानिक
तथा राजनीतिज्ञ बेंजामिन फ्रैंकलिन (Benjamin
Franklin, सन् १७०६-१७९०) ने इस सिद्धांत का समर्थन कर,
विस्तार किया। फ्रैंकलिन ने कहा कि विद्युत् न तो उत्पन्न
की जा सकती है, न नष्ट
ही। फ्रैंकलिन ने लीडेन जार
का अध्ययन कर उसकी क्रिया को समझाने
की चेष्टा की। पर फ्रैंकलिन का सबसे
प्रसिद्ध एवं महत्वपूर्ण वह प्रयोग था, सिसमें उन्होंने सिद्ध
किया कि मेघों से मेघगर्जन के समय विद्युत् तथा साधारण विद्युत्
के गुण समान हैं। उन्होंने यह
भी कहा कि विद्युत् के कण एक दूसरे पर बल
डालते हैं।
फ्रैंकलिन के पश्चात् एपीनुस (Aepinus, सन्
१७२४-१८०२) ने इन विचारों को लिया तथा इसका आभास
दिया कि दो वस्तुओं का बल उनके बीच
की दूरी बढ़ाने पर घट जाता है। इस
सिद्धांत का विस्तार जाजेफ प्रीस्टलि (Joseph
Priestley, सन् १७३३-१८०४)
तथा हेनरी कैवेंडिश (Hernry Cavendish, सन्
१७३१-१८१०) ने किया। फिर कूलॉम (Coulomb, सन्
१७३६-१८०६) ने खोज की कि दो आवेशों के
बीच का बल, उनके बीच
की दूरी के वर्ग के
व्युतक्रमानुपाती तथा आवेशों के गुणनफल के
समानुपाती होता है। विद्युत् का यह मूल नियम अब
भी ‘कूलॉम का बलनियम’ कहा जाता है। सन् १८३७
में माइकल फैराडे (Faraday, सन् १७९१-१८६७) ने
किन्हीं दो आवेशित वस्तुओं के बीच
के विद्युत् बल पर माध्यम के प्रभाव का अध्ययन
किया तथा पता लगाया कि यदि माध्यम हवा के स्थान पर कोई और
विद्युतरोधी हो तो विद्युत् बल घट जाता है,
विद्युत्रोधी के इस गुण को उन्होंने ‘विशिष्ट
पारवैद्युतता’ (Specific Inductive capacity)
अथवा पराविद्युत (Dielectric) कहा । उन्होंने अपने बर्फ के
बरतनवाले प्रसिद्ध प्रयोग (icepile experiment)
द्वारा दर्शाया कि यदि किसी आवेशित चालक का एक
बरतन में लाया जाए, तो बरतन के अंदर की ओर
विजातीय आवेश प्रेरित होता है तथा बाहर
की ओर सजातीय अवेश। फैराडे ने
पराविद्युत् का गहन अध्ययन किया तथा उनके विभिन्न
प्रभावों को समझाने के लिए विद्युत् बल रेखाओं का विचार उपस्थित
किया तथा आवेशित वस्तुओं के बीच के
खाली स्थान को ‘क्षेत्र’ कहा। फैराडे के क्षेत्र
सिद्धांत को गणित की सहायता से गाउस (Gauss)
ने आगे बढ़ाया।
अठ्ठारहवीं शताब्दी के अंतिम वर्षों में
आवेशों के चलन (अर्थात् विद्युत् प्रवाह) के संबंध में कई
प्रयोग तथा सिद्धांत प्रकाश में आने लगे थे। सन् १७८० में
इटली के
ल्युगी गैलवानी (Luigi Galvani, सन्
१७३७-१७९८) ने मेढक के उपर विद्युत् प्रवाह के कई प्रयोग
किए। सन् १८०० में वोल्टा (Volta, सन् १७४५-१८२७) ने तनु
अम्ल अथवा लवण विलयन से
भीगी हुई दो असमान धातुओं में विद्युत्
प्रभाव पाए तथा उनसे विद्युद्धारा प्राप्त की। इस
विद्युत् प्रवाह को कई गुना करने के लिए उन्होंने
ऐसी कई असमान धातुओं के जोड़ों को लेकर एक पुंज
बनाया जिसे वोल्टीय पुंज (Volta’s pile) कहते
हैं। वोल्टा द्वारा इन प्रयोगों के अनुसार विद्युद्धारा प्राप्त करने के
लिए ‘वोल्टीय सेल’ की रचना हुई।
उसी वर्ष इंग्लैंड में निकल्सन (Nicholson)
तथा कार्लाइल (Carlisle) ने इस बात
का पता लगाया कि यदि पानी में विद्युत्धारा प्रवाहित
की जाए तो पानी के हाइड्रोजन तथा
ऑक्सीजन में अपघटन को जाता है। ऐसे अपघटन
को वैद्युत् अपघटन (Electrolysis) कहते हैं। क्रुकशैक
(Cruick shank, १७४५-१८००) ने पता लगाया कि विलयन के
धातुलवण भी इसी प्रकार अपघटित किए
जा सकते हैं। इसके पश्चात् फैराडे ने इस क्रिया का नियमित
अध्ययन किया तथा ‘फैराडे के नियमों’
की स्थापना की। इन नियमों अथवा इनसे
संबंधित प्रयोगों के आधार पर विद्युत धारा उत्पादन करनेवाले
विभिन्न प्रकार के सेल
तथा संचायकों की रचना की गई है।
सन् १८२० में हैंस क्रिश्चियन अरस्टेड (Hans Christian
Oersted, सन् १७७१-१८५१) ने खोज किया कि एक तार में
प्रवाहित विद्युत् धारा के साथ उससे संबंधित एक
चुंबकीय क्षेत्र भी होता है। इस
महत्वपूर्ण खोज को किप्रो (Biot, सन् १७७४-१८६२)
तथा सावार (Savart, सन् १७९१-१८४१) ने और ऐंपियर
(Ampere, सन् १७७५-१८३६) ने गणित एवं
प्रयोगों की सहायता से आगे बढ़ाया। ऐंपियर ने यह
दिखाया कि दो समांतर तारों में विद्युत् धारा की दिशा समान
होने पर आकर्षण तथा विपरीत होने पर
प्रतिकर्षण होता है। आरस्टेड के सिद्धांतों को फैराडे ने विकसित
किया तथा विद्युत्-चुंबकीय प्रेरण के
नियमों की स्थापना की। प्रेरण
का अध्ययन बाद में नाइमन (Neumann) तथा वेबर (Weber)
ने भी किया परंतु
प्ररेणा संबंधी विचारों का महत्वपूर्ण उपयोग क्लार्क
मैक्सवेल (Clerk Maxwell, सन् १८३१-१८७९) ने सन्
१८५१ में किया तथा ‘मैक्सवेल समीकरणों’
की स्थापना कर विद्युच्चुंबकीय
सिद्धांतों को गणित की सहायता से एक सुलझा हुआ
रूप दिया। आधुनिक भौतिकी में इन
समीकरणों का विशेष स्थान है।
सन् १८२२ में जेबेक (Seebeck, सन् १७७०-१८३१) ने
देखा कि यदि एक परिपथ में दो असमान धातुओं को जोड़ दिया जाए
और एक जोड़ को गरम किया जाए तो परिपथ में विद्युत् प्रवाहित
होती है। ऐसी विद्युत्
को ‘ऊष्मा विद्युत्’ कहते हैं।
सन् १८२६ में जार्ज साइमन ओम (George Simon ohm,
सन् १७८७-१८५४) ने प्रसिद्ध ‘ओम के नियम’
की स्थापना की। सन् १८४१ में जूल
(Joule) ने विद्युत् के ऊष्मा प्रभाव का अध्ययन
किया तथा बतलाया कि किसी सेल
की रासायनिक ऊर्जा, जो परिपथ में धारा प्रवाहित
करती है, उस परिपथ में उत्पादित ऊष्मा उर्जा के
बराबर होती है। हेल्म होल्टज़ (Helm holtz,
सन् १८२१-१८९४), विलियम टॉमसन, केलविन, लार्डं, (William
Thomson, Kelvin Lord, सन् १८४७-१८५३) आदि ने
विद्युत् ऊर्जा संबंधी अन्य सिद्धांतों का विकास किया।
सन् १८४८ में किर्खहाफ़ (Kirchoff, सन् १८२४-१८८७) ने
विद्युद्धारा संबंधी नियमों को प्रस्तुत किया। सन्
१८५१ में लार्ड केलविन ने ऊष्मा विद्युत् का
ऊष्मागतिकी के सिद्धातों द्वारा विश्लेषण किया। सन्
१८५५ में मैक्सवेल द्वारा विद्युत् तथा प्रकोशतरंग
संबंधी विचारों की नींव
पड़ी। सन् १८८४ में जॉन हेनरी पांइटिंग
(John HenryPoynting) ने विद्युत् चुंबकीय
क्षेत्र में ऊर्जा प्रवाह का अध्ययन किया। सन् १८८६ में
हाइन्रिख हेर्ट्स (Heinrich Hertz, १८५७-१८९४)
की सहायता से मैक्सवेल के सिद्धांतों को प्रायोगिक
समर्थन मिला। इसके पश्चात् विद्युच्चुंबकीय
तरंगों के विषय में कई वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित हुआ।
मारकोनी ने सन् १८९६ में इनका प्रयोग संदेश भेजने
में किया। इसी समय के लगभग भारत के
जगदीशचंद्र बसु, (१८५८-१९३७) ने उच्च
आवृत्तिवाली विद्युच्चंबकीय
तरंगों का जनन किया तथा इनके गुणों को प्रकाश के सिद्धांतों से
समझाने की चेष्टा की। इसके पश्चात्
इस विषय की पर्याप्त प्रगति हुई जिसे फलस्वरूप
रेडियो, टेलिविजन तथा ‘इलेक्ट्रॉनिकी’ का क्षेत्र
विकसित हुआ।
हेर्ट्स के अन्य प्रयोगों ने ‘प्रकाशविद्युत्’
की भी खोज
की जिसको आइंसटीन (Einstein) ने
क्वांटम सिद्धांतों द्वारा सन् १९०५ में समझाया। सन् १८९५ में
तथा उसी समय के लगभग भौतिकी के
क्षेत्र में एक क्रांतिकारी आंदोलन आया। सन् १८९५
में रंटगेन (Roentgen) ने ‘एक्सरे’ का, १८९६ में बेक्रेल ने
(Becquerel) ने रेडियोसक्रियता (Radio activity)
का तथा १८९७ में सर जे.जे. टॉमसन (Sir J.J. Thomson) ने
‘इलेक्ट्रान’ का आविष्कार किया। टामसन् ने गैसों में से
विद्युद्विसर्जन के विषय का भी अध्ययन किया। इस
विषय में इनसे पहले, आरंभ में (सन् १८५० एवं उसके बाद)
गाइसलर (Geissler), प्लकर (Plucker), हिटॉर्फ (Hitlorf),
गोल्डस्टीन (Goldstein) आदि ने कार्य किया था।
बाद के वैज्ञानिकों में से प्रमुख हैं जे.एस. टाउनसेंड (J.S.
Townsend) तथा उनके साथी। सन् १९०२ में
रिचर्डसन् (Richardson) ने ‘तापायनिक’ विषय
की नींव डाली। ‘तापायन
धारा’ के सिद्धांत पर रेडियो वाल्व तथा इलेक्ट्रॉनिकी के
अन्य वाल्वों की रचना हुई है।
बीसवीं शताब्दी में एक के
पश्चात् एक महत्वपूर्ण खोजों का ताँता बँध गया जिनके परिणाम
स्वरूप आज के हाइड्रोजन बम, संगलन ऊर्जा (Fusion
energy), ‘स्पुतनिक’ तथा अन्य उपग्रह इत्यादि। इनके पनपने
में किसी न किसी रूप में विद्युत् के
सिद्धांतों का उपयोग हुआ है।
Connect to us on facebook Twitter blog

Mukesh Jha

मैं परायापन स्वीकारता नहीं …..

मैं परायापन
स्वीकारता नहीं …..

image

कभी तुम शब्दोँ में छिपे भाव नहीं समझ
पाती,
कभी मैं भावों को शब्दों में सज़ा नहीं पाता..
पर हर बार हारता तो मैं ही हूँ ,
तुम अपनापन जताती नहीं..
मैं परायापन स्वीकारता नहीं…
कभी तुम ख्वाबों में नींद
सज़ा जाती ,
कभी मैं ख़वाब
ही नहीं सजा पाता..
पर हर बार दिल तो मेरा ही टूटता है ,
तुम अपनापन जताती नहीं..
मैं परायापन स्वीकारता नहीं..
कभी तुम मुस्कान के कमल खिला जाती,
कभी मैं मुस्कुराना भूल जाता हूँ..
पर हर बार नए सपने तो मैं ही बुनता हूँ,
तुम अपनापन जताती नहीं..
मैं परायापन स्वीकारता नहीं ..

Mukesh Jha

Modi cabinet slowly takes place

image

Rajnath may get Home, Joshi may be made
Defence Minister
With six days to go for Prime Minister-designate
Narendra Modi to take oath as the country’s top
executive officer, he is quietly working on his plan
to give shape to the Union Council of Ministers.
Senior leader Rajnath Singh is likely to get the all-
important Home Ministry, while Murli Manohar
Joshi may be given charge of the Defence
Ministry. Sources indicated that senior BJP leader
Arun Jaitley could be given the responsibility of the
Finance Ministry, while Sushma Swaraj may get
charge of Human Resource Development (HRD)
Ministry. The name of senior leader from
Jharkhand Karia Munda is also doing the rounds
for the post of Lok Sabha Speaker, sources said.
So far, Mr. Modi has kept his cards close to his
chest. Party leaders familiar with his style of
functioning say he is a patient listener, quick at
grasping things and often comes up with his own
‘out- of-the-box’ solution on issues. “There has
been so much speculation on ministerial berths but
frankly nobody knows about Mr. Modi’s thinking or
who will get what,’’ said a senior leader.
Another senior party leader who has watched Mr.
Modi closely over the past several years said the
new ministries would get time-bound goals and
targets to work on. “Mr. Modi believes in working
constantly and consistently and packs in nearly 18
hours a day of work,” he said.
The Prime Minister-elect gave a glimpse of his
thinking in his address in the Central Hall of
Parliament soon after the BJP Parliamentary Party
unanimously elected him as its leader on Tuesday.
“We are here not for posts but to represent the
aspirations of 125 crore people. Fulfilling my
responsibility is the main thing,” he told the party
members. He promised to usher in an era of
responsibility and accountability. “An era of
responsibility has begun. When we meet in 2019, I
will give you and my countrymen a report card … I
will live for India.
meet us
my Twitter handle

Mukesh Jha

भौतिक शास्त्र

image

भौतिकी के अन्तर्गत बहुत से प्राकृतिक
विज्ञान आते हैं

भौतिक शास्त्र अथवा भौतिकी, प्रकृति विज्ञान
की एक विशाल शाखा है।
भौतिकी को परिभाषा करना कठिन है। कुछ विद्वानों के
मतानुसार यह ऊर्जा विषयक विज्ञान है और इसमें ऊर्जा के
रूपांतरण तथा उसके द्रव्य
संबंधों की विवेचना की जाती
है। इसके द्वारा प्राकृत जगत और
उसकी भीतरी क्रियाओं
का अध्ययन किया जाता है। स्थान , काल , गति, द्रव्य, विद्युत,
प्रकाश , ऊष्मा तथा ध्वनि इत्यादि अनेक विषय
इसकी परिधि में आते हैं। यह विज्ञान का एक
प्रमुख विभाग है। इसके सिद्धांत समूचे विज्ञान में मान्य हैं
और विज्ञान के प्रत्येक अंग में लागू होते हैं। इसका क्षेत्र
विस्तृत है और इसकी सीमा निर्धारित
करना अति दुष्कर है। सभी वैज्ञानिक विषय
अल्पाधिक मात्रा में इसके अंतर्गत आ जाते हैं। विज्ञान
की अन्य शाखायें या तो सीधे
ही भौतिक पर आधारित हैं, अथवा इनके
तथ्यों को इसके मूल सिद्धांतों से संबद्ध करने का प्रयत्न
किया जाता है।
भौतिकी का महत्व इसलिये भी अधिक
है कि अभियांत्रिकी तथा शिल्पविज्ञान
की जन्मदात्री होने के नाते यह इस
युग के अखिल सामाजिक एवं आर्थिक विकास की मूल
प्रेरक है। बहुत पहले इसको दर्शन शास्त्र का अंग मानकर
नैचुरल फिलॉसोफी या प्राकृतिक दर्शनशास्त्र कहते
थे, किंतु १८७० ईस्वी के लगभग इसको वर्तमान नाम
भौतिकी या फिजिक्स द्वारा संबोधित करने लगे।
धीरे-धीरे यह विज्ञान
उन्नति करता गया और इस समय तो इसके विकास
की तीव्र गति देखकर, अग्रगण्य
भौतिक विज्ञानियों को भी आश्चर्य हो रहा है।
धीरे-धीरे इससे अनेक महत्वपूर्ण
शाखाओं की उत्पत्ति हुई, जैसे रासायनिक
भौतिकी, तारा भौतिकी,
जीवभौतिकी, भूभौतिकी,
नाभिकीय भौतिकी,
आकाशीय भौतिकी इत्यादि।
भौतिकी का मुख्य सिद्धांत “उर्जा संरक्षण
का नियम ” है। इसके अनुसार
किसी भी द्रव्यसमुदाय
की ऊर्जा की मात्रा स्थिर
होती है। समुदाय की आंतरिक
क्रियाओं द्वारा इस मात्रा को घटाना या बढ़ाना संभव
नहीं। ऊर्जा के अनेक रूप होते हैं और
उसका रूपांतरण हो सकता है, किंतु उसकी मात्रा में
किसी प्रकार परिवर्तन करना संभव
नहीं हो सकता। आइंस्टाइन के
सापेक्षिकता सिद्धांत के अनुसार द्रव्यमान
भी उर्जा में बदला जा सकता है। इस प्रकार
ऊर्जा संरक्षण और द्रव्यमान संरक्षण
दोनों सिद्धांतों का समन्वय हो जाता है और इस सिद्धांत के
द्वारा भौतिकी और रसायन एक दूसरे से संबद्ध
हो जाते हैं।
चिरसम्मत भौतिकी (क्लासिकल
फिजिक्स)
मुख्य लेख : चिरसम्मत भौतिकी
भौतिकी को मोटे रूप से दो भागों में विभाजित
किया जा सकता है। १९०० ईस्वी से पूर्व जो भौतिक
ज्ञान अर्जित किया गया था और तत्संबंधी जो नियम
तथा सिद्धांत प्रतिपादित किए गए थे, उनका समावेश चिरसम्मत
भौतिकी में किया गया। उस समय
की विचराधारा के प्रेरणास्त्रोत गैलिलियो
(१५६४-१६४२ ईस्वीं) तथा न्यूटन (१६४२-१७२७)
थे। चिरसम्मत भौतिकी को मुख्यत:
यांत्रिकी (मिकैनिक्स),
ध्वनिकी (अकौस्टिक्स), ऊष्मा, विद्युतचुंबकत्व
और प्रकाशिकी (ऑप्टिक्स) में विभाजित
किया जाता है। ये शाखायें इंजीनियरिंग तथा शिल्प
विज्ञान की आधारशिलायें हैं और
भौतिकी की प्रारंभिक शिक्षा इनसे
ही शुरू की जाती है
आधुनिक भौतिकी
१९०० ईस्वी के पश्चात अनेक
क्रांतिकारी तथ्य ज्ञात हुए,
जिनको चिरसम्मति भौतिकी के ढाँचे में बैठाना कठिन
है। इन नये तथ्यों के अध्ययन करने और
उनकी गुत्थियों को सुलझाने में
भौतिकी की जिस
शाखा की उत्पत्ति हुई, उसको आधुनिक
भौतिकी कहते हैं। आधुनिक
भौतिकी का द्रव्यसंरचना से सीधा संबंध
है। अणुपरमाणु, केंद्रक (न्युक्लियस) तथा मूल कण इनके
मुख्य विषय हैं। भौतिकी की इस
नवीन शाखा ने वैज्ञानिक
विचारधारा को नवीन और क्रांतिकारी मोड़
दिया है तथा इससे समाजिक विज्ञान और दर्शनशास्त्र
भी महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित हुए हैं।
भौतिक शास्त्र के प्रमुख क्षेत्र
यांत्रिकी तथा द्रव्यगुण
ध्वनिकी
ऊष्मा
प्रकाशिकी
आधुनिक भौतिकी
कण भौतिकी

Posted from WordPress for

The Gas Laws

Various gas laws were given time to time to explain the behaviour of gases.

1. Boyle’s law: The volume of given mass of a gas is inversely proportional to pressure at constant constant temperature.
V~1/P
or PV=constant

2. Charles law: The volume of given mass of a gas is directly proportional to absolute temperature at constant pressure.
V~T (at constant mass and P)
Or V/T=constant
3. Gay-Lussacs law or pressure temperature law: The pressure of a given mass of a gas is directly proportional to temperature at constant volume.
P~T
Or P/T=constant
3.The Gas equation:
PV=RT for one mole of gas
And PV=nRT For n mole of gas
Since n=w/m
PV=wRT/m
Where R is molar gas constant, w is weight of gas and m is molecular weight of gas.

Posted from WordPress for

जीवन का गणित

कुए में उतरने
वाली बाल्टी यदि झुकती है,
तो भरकर बाहर आती है…
जीवन का भी यही गणित
है,
जो झुकता है वह
प्राप्त करता है…
जीवन में किसी का भला करोगे,
तो लाभ होगा…
क्योंकि भला का उल्टा लाभ होता है ।
और
जीवन में किसी पर दया करोगे,
तो वो याद करेगा…
क्योंकि दया का उल्टा याद होता है।
भरी जेब ने ‘ दुनिया ‘ की पहेचान करवाई
और खाली जेब ने ‘ इन्सानो ‘ की.
जब लगे पैसा कमाने, तो समझ आया,
शौक तो मां-बाप के पैसों से पुरे होते थे,
अपने पैसों से तो सिर्फ जरूरतें
पुरी होती है।
“झोंपड़ी और महल में इतना ही फर्क
होता है..,
झोंपड़ी पर लिखा होता है ” सुस्वागतम “,
महल पर लिखा होता है ” कुत्ते से सावधान ”
रब ने नवाजा हमें जिंदगी देकर;
और हम शौहरत मांगते रह गये;
जिंदगी गुजार दी शौहरत के
पीछे;
फिर जीने की मौहलत मांगते रह गये।
ये कफन, ये जनाज़े, ये कब्र, सिर्फ बातें हैं मेरे दोस्त,
वरना मर तो इंसान तभी जाता है जब याद करने
वाला कोई ना हो…!!

Posted from WordPress for